ऊधम सिंह नगरस्वास्थ्य

बढ़े हुए पेट को छिपाने के लिए ये हरकत पढ़ सकती है भारी !

रूद्रपुर। आजकल हर कोइ स्लिम और फिट दिखना चाहता है। इसके लिए कुछ लोग खान पान और लाईफ स्टाईल में बदलाव करने के बजाय ऐसे सरल उपाय ढूंढते हैं जो सेहत के लिए खतरा बन सकते हैं। कई महिलाएं और पुरुष अपने बढ़े हुए पेट के चलते पेट को सांस खींचकर अंदर कर लेते हैं, जिससे पेट पर दबाव पड़ता है। अगर आप अक्सर अपने पेट को अंदर करने के लिए यही तरकीब आजमाते हैं तो सावधान हो जाएं। ऐसा इसलिए क्योंकि जबरदस्ती पेट अंदर करने की कोशिश स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकती है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक पेट पर दबाव डालने और पेट को जकड़ने से सांस लेने में रुकावट पैदा हो सकती है। इसके अलावा, पेल्विक फ्लोर वीक हो सकता है, जिससे यौन दुर्बलता की समस्या होने की संभावना बढ़ सकती है। जब पेट अंदर करने के लिए सांस अंदर खींचते हैं तो इससे डायाफ्राम पर बुरा प्रभाव पड़ता है। सांस खींचने से डायाफ्राम नीचे के बजाय ऊपर की ओर बढ़ जाता है। इसकी वजह से सांस लेने की प्रक्रिया बिगड़ सकती है। पेट अंदर करने के लिए सांस खींचने से पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है। इससे पेल्विक फ्लोर कमजोर पड़ जाता है। इसके अलावा पीठ और गर्दन में दर्द हो सकता है। पेट की मांसपेशियों पर जब दबाव पड़ता है तो सारी एनर्जी एक क्षेत्र में जाकर सिमट जाती है। इससे कंधे, गर्दन और पीठ में दर्द महसूस हो सकता है। पाचन सम्बंधी दिक्कतें भी आ सकती है। पेट पर दबाव बनाकर अंदर करने की प्रक्रिया को मेडिकल लेंग्वेज में ऑवरग्लास सिंड्रोम कहा जाता है। अगर आप भी ऐसा काम बार-बार करते हैं तो आज से ऐसा करना बंद कर दें।